Pages

Tuesday, March 1, 2011

हुआ तो कुछ नहीं

हुआ तो
कुछ नहीं है
बस
थोडा सा
मन टूटा है
थोड़े से
ख्वाब बिखरे हैं

थोड़े से
लोग बिछड़े है
हुआ तो
कुछ नहीं है
बस
थोड़ी सी
आँखें बरसना सीखी हैं
मोहब्बत का सिला पाया है
हुआ तो
कुछ नहीं है
बस
किसी अपने ने रुलाया है

No comments:

Post a Comment