Pages

Saturday, March 5, 2011

तुझे काश ….!!!

कुछ ख्वाब थे
मेरी आँखों में ....!!!
तुझे,,,,
पा लेने की चाहत थी...!!

चंद लफ्जो में
ये कहता हूँ

मुझे
तुमसे बहुत मोहब्बत थी
पर
तुम क्या जानो
चाहत  को....?
तुम्हे
हो जाती तो
पूछता मै,,,,,

दिल
जब टूट के रोता है
कितना
दम खुश्क करने वाला
दर्द होता है ....???

ये ख्वाब
हकीकत हो जाये...
किसी
अपने जैसे संगदिल से
 तुझे   काश ….!!!
……..मोहब्बत हो जाये....!!

1 comment: