Pages

Sunday, October 9, 2011

" वो हम हैं"....!!!

सुनो....!!!   

हथेली सामने रखना ;
कि सब आंसूं
गिरें उसमे..
जो रुक जायेगा होंठों पर समझ जाना
कि "..वो .. हम हैं"....!!!

जो चल जाये ..हवा ठंडी,
तो आँखे बंद कर लेना...;
जो झोंका
तेज हो सबसे...
समझ जाना
कि ..."वो हम हैं".....!!!

जो जादा
याद आयें हम ...
तो रो लेना जी भर के....
अगर हिचकी कोई आये;
समझ जाना
...." वो हम हैं"....!!!

मुझे शायद        
भुला दो तुम....
अगर तुम भूलना चाहो....
मगर
जब सांस लेना तुम...
समझ जाना
कि .."वो हम हैं"......!!!
 

2 comments:

  1. वाह क्या खूब अहसासो को संजोया है……………कोमल भावो की सुन्दर अभिव्यक्ति प्रेम से सराबोर्।

    ReplyDelete
  2. Sari Senti Poems kyu likhte ho Anand ji..

    ReplyDelete