Pages

Saturday, January 14, 2012

मुझे बेहद मोहब्बत है ....!!!


मुझे 
बेहद  मोहब्बत है 
तेरे कदमो की आहट से 
तेरी इस 
मुस्कराहट से...
तेरी बातों की खुशबू से 
तेरी आँखों के जादू से....!!!


तेरी दिलकश 
अदाओं से...
तेरी कातिल 
जफ़ाओं से....!!!

मुझे बेहद मोहब्बत है.....!!!


तेरी राहों में 

रुकने से....
तेरी पलकों के 
झुकने से....
तेरे होंठो के 
हिलने से...
सहर -ओ -शाम हाथों पे
तेरा ही नाम लिखने से....!!!

तेरे गुस्से -अदावत से...
तेरी बे-वजह 
शिकायत से...
कहा तक कहूं 
सनम मेरे .....
तेरी हर एक आदत से

मुझे बेहद ..मोहब्बत है....!!!


Sunday, January 8, 2012

हवाएं सर्द जनवरी की
टूटे  दिल के दर पे फिर...

दस्तक देने आयी हैं...!!!

फिर से खुश्क  हवाओं में 
भटकती हुई सदायें है....!!!

सुलझे नहीं हालत अभी....

वोही  आस  में लिपटी हुई 
दुआएं हैं...!!!
ऐ जिंदगी  
जरा गिनवा मुझको ...
कितनी मेरी खताएं हैं....???

जनुवरी के दरवाजे 

मुझे बता... 
इस बरस की कैसी 

सजाएं है....???