Pages

Wednesday, July 24, 2013

मोहब्बत काँच का सौदा ...!!!




मोहब्बत
काँच का सौदा ...!!!

मोहब्बत
आग का दरिया ....
मोहब्बत
जून जैसी है
मोहब्बत
बरफ का गोला ..!!!
मोहब्बत
रात काली है ..
मोहब्बत
नीला मौसम है ..
मोहब्बत

कच्चा आँगन है ...
मोहब्बत
तितलियों का घर ....!!!
मगर फिर भी ....

मोहब्बत
काँच का सौदा .....
किसी
नामालूम बस्ती से ....
किसी
अनजान हस्ती से ..
किसी 
कागज की कश्ती से ...!!!

किसी
खिड़की के मंजर से ..

किसी
पत्थर के खंजर से ...

किसी
धुंधली सी हसरत से ...

किसी
बेदर्द किस्मत से .... !!!

किसी
झूठी तसल्ली से .....

मोहब्बत हो ही जाती है ....!!!

No comments:

Post a Comment