Pages

Wednesday, February 27, 2013

किसी का नाम लिखने से.....!!!

बड़े मासूम जज्बों से
वो अपने शोख हाथो पर
वफ़ा की
सुर्ख मेहंदी से
उसी का
नाम लिखती है ....!!!
जिसे वो प्यार
करती है .....

मगर वो
ना-समझ लड़की
अभी तक
ये नहीं समझी  .....

कि सपने
टूट जाएँ तो
बहुत
बर्बाद करते है ....!!!

ये उजले रंग
होंठों पर
कभी
ठहरा नहीं करते ....!!!

मोहब्बत तो
हकीकत है
कोई सपना नहीं होता ....!!!

किसी का
नाम लिखने से

कोई अपना नहीं होता ...!!!

Monday, February 11, 2013

एक जरा सी रंजिश से .....!!!

एक जरा सी रंजिश से .....
शक की ज़र्द टहनी पर  .....
फूल बदगुमानी  के ....
इस तरह से खिलते हैं ....

जिंदगी से प्यारे भी ....
अजनबी से लगते हैं .....!!!

गैर  बनके मिलते हैं ....
दोस्तदार लहजों में ....
सलवटें सी पड़ती हैं .....!!!

उम्र भर की चाहत का  ....
आसरा नहीं मिलता ...
दहशत -ऐ - बे यकीनी में
रास्ता नहीं मिलता .....!!!!
फूल रंग वादों की
मंजिले सिकुड़ती हैं ....!!!

राह मुड़ने लगती है ....
बेरुखी के गारे से ....
बे दिली की मिटटी से .....
फासलों की ईंटों  से ...
ईंट  जुड़ने लगती है ....!!!

खाक उड़ने लगती है ...
वहमों के सर्द साए से .....
उमर भर की मेहनत को ...
पल में तोड़ जाते हैं ...!!!
.
भीड़ में ज़माने की ..
साथ छोड़ जाते हैं ....
एक जरा सी रंजिश से ....
साथ छोड़ जाते हैं ...!!!

ख्वाब टूट जाते हैं ......!!!

Saturday, February 9, 2013

वो सपने बेहिसाब थे .....!!!

ना गिला है कोई
हालात से ..
ना शिकायते
तेरे जज्बात से ....

खुद ही
सारे वर्क जुदा हुए ...
मेरी
जिंदगी की किताब से ....

तुझे चाहा था ...
तुझे पा लिया ....
तुझे पा के भी
तुझे खो  दिया ....

मुझे
ख्वाहिशों की थी
आरज़ू ,....
मेरी जिन्दगी में
अजाब थे ...
मेरी वहशतों की राह में ..
फकत महफ़िलों की शराब थी .....
कटी उम्र
जिसकी तलाश में ...
मेरी रतजगों के
वही ख्वाब थे ...

यूँही भटक भटक के
तमाम उम्र
कभी असर ही न हुआ ....
.जिन्हें खो दिया ...
तेरे इश्क में ....
वो सपने
बेहिसाब थे .....!!!

Thursday, February 7, 2013

मत तन्हा तन्हा घबराना ...!!!!

सुनो .....!!!
जब पंछी सारे उड़ जाएँ
हर सिम्त
अँधेरा छा जाए
जब गुजरी बातें
याद आयें
और बीती बातें
तडपाये
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....
तुम पास हमारे
आ जाना ...

जब कोई दिन में
शाम करे ....
या
लब की हँसी
बदनाम करे ....                                                          

जब दर्द
सुकून का
नाम ना ले ......
या रातों की
नींद
हराम करे .......!!!
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....                                                           
तुम पास हमारे
आ जाना ...


दिल प्रीत हमारी
                                                                    
दुहराए .......
या रीत पुरानी
याद आये .....
जब
मिलने को भी
दिल चाहे .....
और प्यार
भरा दिल ना पाए ....
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....
तुम पास हमारे
आ जाना ...
....!!!!