Pages

Thursday, February 7, 2013

मत तन्हा तन्हा घबराना ...!!!!

सुनो .....!!!
जब पंछी सारे उड़ जाएँ
हर सिम्त
अँधेरा छा जाए
जब गुजरी बातें
याद आयें
और बीती बातें
तडपाये
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....
तुम पास हमारे
आ जाना ...

जब कोई दिन में
शाम करे ....
या
लब की हँसी
बदनाम करे ....                                                          

जब दर्द
सुकून का
नाम ना ले ......
या रातों की
नींद
हराम करे .......!!!
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....                                                           
तुम पास हमारे
आ जाना ...


दिल प्रीत हमारी
                                                                    
दुहराए .......
या रीत पुरानी
याद आये .....
जब
मिलने को भी
दिल चाहे .....
और प्यार
भरा दिल ना पाए ....
मत  तन्हा तन्हा
घबराना ....
तुम पास हमारे
आ जाना ...
....!!!!


5 comments:

  1. बहुत खूब

    "जब कोई दिन में शाम करे
    लब की हँसी बदनाम करे"

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार ..राकेश जी ......!!! बहुत शुक्रिया .....!!!

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (9-2-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया .....बहुत शुक्रिया ......हार्दिक धन्यवाद ....!!!

      Delete
  3. भावनाओ को बिम्ब देती बहुत ही प्यारी और बेहतरीन कविताई ,प्रेम और प्रेमी के मनोभावों का सटीक वर्णन ,शुभकामनाए

    ReplyDelete